Thursday, March 24, 2016

तुम केवल



तुम केवल
तुम केवल अक्षरों की पहचान को ही
पढ़ने का नाम देते हो
मगर मैं इसके परे भी
पढ़ पाता हूँ बहुत कुछ
पिताजी के गुस्साने पर
माँ की आँखों का दर्द
भाई के बहानों में छिपा झूठ
या पड़ोसी के बेटे की कुटिलता
और रिश्तों में पसरी तटस्थता,
हाँ, यह भी पढ़ पाता हूँ मैं
कि मुझे मूल्यों का पाठ पढ़ानेवाले
खुद कितने मूल्य सहेजते हैं|
मगर तुम्हारे लिए इतना पर्याप्त नहीं
पढ़ने के कौशल के लिए,
तुम तो आज भी बस
अक्षरों की ही पहचान को
पढ़ने का नाम देते हो|
                                                             - भारती पंडित

Tuesday, July 30, 2013



 पदचिह्न 

उम्र छोड़ती जाती है  पदचिह्न
चेहरे पर हमारे कदम  दर कदम 
झुर्रियाँ , झाइयाँ ,धब्बे बनकर 
शायद  ही छुपा पाते हैं  प्रसाधन  उन्हें 

उम्र छोड़ती जाती है पदचिह्न 
शरीर पर हमारे कदम दर कदम 
मोटापा , रक्तचाप,संधिवात बनकर 
शायद ही मिटा पाती है दवाएँ जिन्हें 

कुछ पदचिहन छोड़ती है उम्र 
समझ पर भी कदम दर कदम 
बड़प्पन और सुन्दर विचार बनकर 
नहीं पड़ती जरुरत  छिपाने की जिन्हें 
क्योंकि 
जीवन सार्थक कहलाता है इनके होने पर ही 

भारती पंडित 

Wednesday, July 17, 2013




   अगला जन्म 
सड़क के किनारे बनी मजदूर बस्ती में वह अपने टूटे-फूटे झोंपड़े में बच्चों को बहला रही थी| भोजन के नाम पर बर्तन में चावल के चंद दाने थे | सोचती  थी बातों के बहलाव-फुसलाव के साथ परोसे गए चावल उनका पेट भरने में कामयाब हो जाएंगे | इतने में बड़ा बेटा बोला ," माँ , क्या अगला जन्म भी होता है?" 
वह बोली ,"हाँ बेटा , सुना तो है , क्यों ?
बेटा बोला ," फिर तो मैं भगवान से प्रार्थना करूंगा की अगले जन्म में मुझे इंसान नहीं, सामने वाले बंगले का कुत्ता बनाना | पता है माँ , वह कुत्ता रोज़ दूध-बिस्कुट, अंडे-ब्रेड-मांस  खाता है | रोज़ महंगे शैम्पू से नहाता है और कार में भी घूमता है | और तो और बीमार पड़ जाने पर डॉक्टर उसे खुद देखने आते हैं | कुत्ता होकर कैसी ठाठ की जिन्दगी  है न उसकी ?"
उसकी आँखे फटी की फटी रहा गई थी | कानों में बच्चे के शब्द  भांय-भांय कर रहे थे| उसे लगा मानो सामने बैठा बच्चा अचानक कुत्ते की शक्ल का हो गया और भौं-भौं करता हुआ सामने वाले बंगले में घुस गया |


Wednesday, May 15, 2013

पिंजरे पैमानों के


अपने लिए आज़ादी की मांग करता मैं
जाने-अनजाने गढता जाता हूं
दूसरों के लिए पिंजरे पैमानों के
उठने-बैठने हंसने-रोने के
चरित्र व्यवहार बोलचाल के पैमाने
और सतत अभिलाषी रहता हूं कि
मेरे अपने सहज सहर्ष 
कैद होते जाए मेरे पैमानों में
मेरे जैसे मेरे मुताबिक
उनकों अपने सांचों में ढालता मैं
अक्सर भुला देता हूं
कि आज़ादी की एक मांग उनकी भी थी ..

भारती पंडित

Sunday, February 3, 2013

जीवन की पाठशाला में
भले ही न सीख सका मैं हिज्जे वर्णमाला के
अपनों से संवाद भली भाँति निभा रहा हूँ मैं ।
न पढ़ पाया चंद पन्ने किताबों के
किसी के दर्द को आँखों में पढ़ पाता हूँ मैं ।
अंकों की समझ शून्य थी मेरी
पर रिश्तों का गणित निभा जाता हूँ मैं ।
चाहे कर ना पाया होमवर्क कभी
माँ का हाथ हर काम में बंटाता हूँ मैं ।
प्रगति पत्रक में रहा अनुत्तीर्ण छात्र मैं
जीवन की पाठशाला में होनहार कहा जाता हूँ मैं ।
भारती पंडित
 

Thursday, January 17, 2013




ये शहर 

पौ फटते ही शुरू हो जाती है 
चहलकदमी शहर की 
आँख खुलते ही नज़र आती है 
गहमागहमी शहर की |
भागती बसें, दौड़ते रिक्शे ,
घिसटते कदम, लरजती साइकिलें
आदमी,औरत,मजदूर,बच्चे 
अपनी राहों पर चल पड़ते सच्चे ,
दिन ढले लौटते पंख पसारे 
बेनूर,निस्तेज,थके -हारे
रात गहराती है,सिमटती है ज़िन्दगी
 सुबह की उम्मीद में ढलती है ज़िन्दगी |
इनकी शाम के साथ  रौशन होती है एक सुबह
बारिश में बढ़ते कुकुरमुत्तों की तरह
बिखरती मस्तियां, छलकते है जाम 
उमड़ते हैं सपने , ढलती है शाम 
क्लब पार्टियों की रंगीन रातें 
वो बिजनेस की डीलिंग, सौदे की बातें |
कुछ ऐसे ही रंगों से ढलती है रात 
फिर उनकी सुबह को देती शुरुआत 
चुपके से कह जाती है बात इतनी 
कि उनकी सुबह से है रात इनकी |
  

Tuesday, October 23, 2012

एक दिवसीय साम्राज्य





बिट्टू को समझ में ही नहीं आ रहा था कि आज दादी से लेकर चाची, बुआ सबको हो क्या गया है. रोज तो उसे खूब भाव मिलता था, उसकी मान-मनुहार की जाती थी, उसके पहले  हुई तीन बहनों को तो कोई गिनती में गिनता  भी नहीं था . दादी तो सुबह होते ही उसके हाथ में दूध से भरा गिलास पकडाती थी ,साथ होता था मलाई लगा टोस्ट और बहनों को चाय से आधे भरे गिलास देकर काम पर लगा दिया जाता था . लड़की की जात हो, काम करना सीखोगी तभी ससुराल में निभोगी.. नहीं तो नाक कटाएंगी निगोड़ी.. जैसे प्रवचनों से ही बहनों का नाश्ता भी हो जाता था.. ..
पर आज तो रंग ढंग ही निराले थे. सुबह ही तीनों को बढ़िया उबटन लगाकर नहलाया गया, बालों की सुन्दर चोटी की गई, नए कपडे पहनाकर ऐसे तैयार किया गया मानो कोई त्योहार हो. बिट्टू की ओर तो किसी ने ध्यान ही नहीं दिया . देखते ही देखते घर में और भी लड़कियां जमा हो गई. पिताजी ने सबके पाँव पूजे, गरमा-गरम खीर पूरी खाने को दी. बिट्टू ने खीर के कटोरे को हाथ लगाया तो पिताजी ने आँखे लाल-पीली करके कहा," दस मिनिट सबर नहीं हैं, पहले कन्या तो खा ले.."
सारी कन्याएं घर-घर घूमती फिरी. यहाँ-से न्योता, वहाँ से न्योता ... खा-खाकर अघाई, खूब सिक्के, तरह तरह की चीजें इकठ्ठी कर घर ले आई. 
बिट्टू उदास हो घर के बाहर बैठा था कि पास का गुड्डू आया," क्या हुआ बोंस, परेशान क्यों हो?" बिट्टो ने मन की दुविधा कह डाली. मन में डर था कि कही उसका राजसिंहासन डोल तो नहीं रहा है..गुड्डू ठठाकर हंस पडा.." अरे चिंता मत कर छोरे, आज नवमी है ना ..देवी माँ का दिन.. बस एक ही दिन का राज -पाट है इनका .. कल से फिर जुट जाएँगी अपने काम-काज में.. अगली नवमी के इन्तजार में.."
. एक कड़वा सच..और सचमुच ही शाम होते ही घर-घर में कठोर पुकार मचने लगी.. अरी निगोड़ी.. खेलती ही रहेगी या माँ के साथ हाथ भी बंटाएगी?
 बिगुल बज गया था.. एक दिवसीय साम्राज्य के अंत का ...
भारती पंडित